Home > Women's day poem > Happy women’s day poems in Hindi 2018

Happy women’s day poems in Hindi 2018

Happy women’s day poems in Hindi: Happy women day is the most popular day is all the world and women’s celebrate this day with friends and families or search the best happy women’s day poems get anywhere but not meet her favorite thing anywhere.Here are the most popular Happy women’s day poems in Hindi that you can easily save from here and share these poems with friends and easily celebrated the international women’s day with Hindi poems.see down and collect the Happy women’s day poems in Hindi.

Happy women's day poems in Hindi

Happy women's day poems in Hindi

  • .जिसने बस त्याग ही त्याग किए
    जो बस दूसरों के लिए जिए
    फिर क्यों उसको धिक्कार दो
    उसे जीने का अधिकार दो 
  • मैं नारी सदियों से
    स्व अस्तित्व की खोज में
    फिरती हूँ मारी-मारी
    कोई न मुझको माने जन
    सब ने समझा व्यक्तिगत धन
    जनक के घर में कन्या धन
    दान दे मुझको किया अर्पण
    जब जन्मी मुझको समझा कर्ज़
    दानी बन अपना निभाया फर्ज़
    साथ में कुछ उपहार दिए
    अपने सब कर्ज़ उतार दिए
    सौंप दिया किसी को जीवन
    कन्या से बन गई पत्नी धन
    समझा जहां पैरों की दासी
    अवांछित ज्यों कोई खाना बासी
    जब चाहा मुझको अपनाया
    मन न माना तो ठुकराया
    मेरी चाहत को भुला दिया
    कांटों की सेज़ पे सुला दिया
    मार दी मेरी हर चाहत
    हर क्षण ही होती रही आहत
    माँ बनकर जब मैनें जाना
    थोडा तो खुद को पहिचाना
    फिर भी बन गई मैं मातृ धन
    नहीं रहा कोई खुद का जीवन
    चलती रही पर पथ अनजाना
    बस गुमनामी में खो जाना
    कभी आई थी सीता बनकर
    पछताई मृगेच्छा कर कर
    लांघी क्या इक सीमा मैने
    हर युग में मिले मुझको ताने
    राधा बनकर मैं ही रोई
    भटकी वन वन खोई खोई
    कभी पांचाली बनकर रोई
    पतियों ने मर्यादा खोई
    दांव पे मुझको लगा दिया
    अपना छोटापन दिखा दिया
    मैं रोती रही चिल्लाती रही
    पतिव्रता स्वयं को बताती रही
    भरी सभा में बैठे पांच पति
    की गई मेरी ऐसी दुर्गति
    नहीं किसी का पुरुषत्व जागा
    बस मुझ पर ही कलंक लागा
    फिर बन आई झांसी रानी
    नारी से बन गई मर्दानी
    अब गीत मेरे सब गाते हैं
    किस्से लिख-लिख के सुनाते हैं
    मैने तो उठा लिया बीडा
    पर नहीं दिखी मेरी पीडा
    न देखा मैनें स्व यौवन
    विधवापन में खोया बचपन
    न माँ बनी मै माँ बनकर
    सोई कांटों की सेज़ जाकर
    हर युग ने मुझको तरसाया
    भावना ने मुझे मेरी बहकाया
    कभी कटु कभी मैं बेचारी
    हर युग में मै भटकी नारी 
  • She wants a free sky, cheapest
    Where she can be fly
    She don’t ask for the wings,
    Just break up her rings…Happy women’s day poems in Hindi
  • U can get her love in the form of Sister, Friend, Beloved, Wife, in the form of Mother & in the form of Grandmother…..so,…..Respect HER….She is a Woman! Happy women’s day poems in Hindi

Happy women's day poems in Hindi

Happy women's day poems in Hindi

Top Happy women’s day poems in Hindi

  • धन्य हो तुम माँ सीता
    तुमने नारी का मन जीता
    बढाया था तुमने पहला कदम
    जीवन भर मिला तुम्हें बस गम
    पर नई राह तो दिखला दी
    नारी को आज़ादी सिखला दी
    तोडा था तुमने इक बंधन
    और बदल दिया नारी जीवन
    तुमने ही नव-पथ दिखलाया
    नारी का परिचय करवाया
    तुमने ही दिया नारी को नाम
    हे माँ तुझे मेरा प्रणाम 
  • A symbol of modesty and mercy
    Healing for the whole of humanity
    Gentle her touch, so her words
    Bless the women for her powers
    Women, the truth, and the love
    Showers on children and her love
    Looking nothing, seeking no rewards
    Only piety flowing through her glance”
    ~ Happy women’s day poems in Hindi
  • All human beings have been created by God with same power irrespective of men or women. And, it is the high time that we should understand the fact.
    **Happy women’s day poems in Hindi**

Happy women's day poems in Hindi

Happy women's day poems in Hindi

Thanks for reading our post please friends share this post with your friends.

Check Also

Happy women's day short poems

Happy women’s day short poems 2018

Happy women’s day short poems: 8th March women’s day is the most popular event of …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this:
Skip to toolbar